Home Motivational Diwali Kya Hai Or Hum Kyo Manate Hai ! शुभ दीपावली 2019

Diwali Kya Hai Or Hum Kyo Manate Hai ! शुभ दीपावली 2019

221
0
Diwali Kya Hai Or Hum Kyo Manate Hai ! शुभ दीपावली 2019

हेल्लो दोस्तों फिर स्वागत है आपका All Hindi Support में भारतीय संस्कृति में दीपावली त्यौहार सभी हिंदुओं द्वारा धूमधाम से मनाया जाता है, इस दिन सभी लोग अपने घरों में दिए जलाते हैं, मिठाई बांटते हैं तथा एक दूसरे से मिलते हैं तो कुछ ही दिनों में दिवाली 2019 आने वाली है, तो आज का हमारा यह लेख दिवाली के विशेष पर्व के विषय पर है जिसमें हम जानेंगे दिवाली का त्यौहार क्यों मनाया जाता है? दोस्तों हो सकता है आप में से अधिकतर यूजर्स को इस बात का पता हो ! लेकिन फिर भी आज का यहां यह लेख आपको आपके बचपन में ले जाएगा जब आपने रामायण को TV पर या अपने किताबों में पढ़ा था! तो साथियों आइए आज के इस लेख का शुभारंभ करते हैं और जानते हैं

दिवाली का त्यौहार क्यों मनाया जाता है ?

यह कहानी तब की है जब भगवान श्रीराम को उनके पिता श्री दशरथ 14 वर्ष के वनवास पर जाने आदेश दे देते हैं और प्रभु श्री राम बिना उनके आदेश पर प्रश्न किये बगैर वनवास को चल देते हैं इस वनवास के कारण मन्थरा के दूषित विचार होते हैं जिन्हें सुनने के बाद प्रभु श्री राम की माता केकयी अपने पति दशरथ से भगवान श्रीराम को वनवास भेजने के लिये वचनबद्ध कर देती है और इस प्रकार प्रभु श्री राम बिना किसी शंका के पिता के आदेश का सम्मान करने हुए वनवास पर जाने के लिए तैयार हो जाते हैं, और लक्ष्मण भी अपने भ्राता के साथ साथ में चल देते हैं।

रावण का वध करने के पश्चात 14 वर्ष के वनवास के बाद जब प्रभु श्री राम वापस अपनी नगरी अयोध्या लौट कर आए तो इस खुशी के अवसर पर अयोध्या की प्रजा ने प्रभु श्रीराम के स्वागत के लिए अपने घर-आंगन की खूब साफ सफाई की तथा दीप जलाकर प्रभु श्री राम का अयोध्या नगरी में स्वागत किया और तभी से दीपावली को हजारों वर्षों से मनाया जा रहा है और इस साल भी हम दिवाली को मनाने जा रहे हैं! हालांकि वर्तमान समय में दिवाली मनाने का अंदाज बदल चुका है क्योंकि उस जमाने में धूमधाम से दिवाली का त्यौहार मनाया जाता था जिसमें लोग पकवान बनाते थे तथा एक दूसरे के साथ हंसते-खेलते थे परंतु आज बदलते समय के साथ लोगों के दिवाली मनाने के अंदाज में परिवर्तन आ चुका है, आज प्रभु श्रीराम के आगमन की ख़ुशी में दीवाली के पर्व पर मिट्टी के दिए के स्थान पर प्लास्टिक के दिए एवं पटाखे की गूंज चारों ओर सुनाई देती है।

दोस्तों दिवाली मनाने के पीछे का यह कारण तो हम सभी लोग जानते हैं लेकिन इसके अलावा भी पौराणिक कथाओं में दिवाली मनाने का विशेष कारण है आइए उसके बारे में भी जान लेते हैं

“पौराणिक कथाओं के अनुसार जब भगवान श्री कृष्ण ने नरकासुर नामक राक्षस का वध किया था तो इस खुशी के मौके पर घरों में दीप जलाकर लोगों ने नगरी को रोशन किया था

इस प्रकार दिवाली के त्यौहार को मनाने का भी एक प्रमुख कारण है।

साथियों भारतीय संस्कृति में दीपक का विशेष महत्व है खुशी के मौके पर दीपक जलाना इसे शक्ति एवं ज्ञान का प्रतीक माना जाता है। अतः खुशी के मौके पर पहले के जमाने से और आज भी अपने घरों को रोशन किया जाता था

सुरक्षित एवं खुशहाल दिवाली कैसे मनाएं ?

दिवाली केसे मनाये – दोस्तों वैसे तो दिवाली किस तरह मनाएं, आपका पर्सनल मामला हैं, लेकिन नीचे दिए गए कुछ टिप्स आपको दिवाली पर्व को पर्यावरण हितैषी तथा खुशहाल दिवाली मनाने में सहायता करेंगे इस दिन घरों में खूब साफ-सफाई होती है ऐसे में घर का कूड़ा कहीं रोड में या फिर कूड़ेदान के अलावा बाहर न जाएं इसका ख्याल रखना आपकी जिम्मेदारी होगी।

दिवाली पर दान करो – दिवाली के इस पावन पर्व पर आप गरीब बच्चों को मिठाई या फिर कपड़े दान के रूप में दे सकते हैं जो आपको बहुत खुशी देंगे बुराई पर अच्छाई के इस त्यौहार में कुछ ऐसे कमिटमेंट करें जो आपको जिंदगी में कामयाब होने में मदद करेगी दोस्तों ज्यादा टॉपिक पर अधिक बात ना करते हुए आज के इस लेख दिवाली कैसे मनाएं? यह पोस्ट Usefull रही होगी !

आपको यह जानकारी कैसी लगी आप कमेंट सेक्शन में अपने विचारों को शेयर कर सकते हैं! साथ ही इस जानकारी को आप अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर अवश्य करें जय हिंदी जय भारत 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here