Home Tech News Satellite Kya Hai कैसे काम करता हैं पूरी जानकारी

Satellite Kya Hai कैसे काम करता हैं पूरी जानकारी

286
0
Satellite Kya Hai कैसे काम करता हैं पूरी जानकारी

नमस्कार दोस्तों सवागत है आपका All Hindi Support में सेटेलाइट के विषय को सरल एवं स्पष्ट शब्दों में समझने के लिए इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें! सेटेलाइट्स की बात होती है तो हमारे देश में (ISROIndian Space Research Organization) ने अपने सफल प्रयासों से विश्व में अपना नाम ऊंचा किया है! दोस्तों क्या आप जानते हैं भारत का पहले सेटेलाइट का नाम आर्यभट्ट का जिसे ISRO द्वारा वर्ष 1975 में बनाया गया था! तथा इस सेटेलाइट को सोवियत संघ द्वारा लांच किया गया

दोस्तों हम यह तो जानते हैं और टीवी पर अक्सर देखते हैं कि ISRO द्वारा अंतरिक्ष में सेटेलाइट को सफलतापूर्वक लांच किया गया है। परंतु यह Satellite Hota Kya है इसके कितने प्रकार होते हैं? यह क्यों जरूरी होते हैं! इसकी जानकारी सभी को नहीं होती इसलिए आज के इस लेख के माध्यम से मैंने प्रयास किया है कि आप सभी लोगों तक सैटेलाइट्स की यह जानकारी पहुंचा सकूं !

Satellite Kya Hai पूरी जानकारी हिंदी में

यदि हम सिंपल शब्दों में सैटेलाइट को समझे तो यह एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है, जिसे अंतरिक्ष में भेजा जाता है, अंतरिक्ष में जाकर यह सेटेलाइट विशेष उद्देश्य हेतु पृथ्वी या फिर ग्रहों की परिक्रमा करते है सेटेलाइट को हिंदी में कृत्रिम उपग्रह के नाम से भी जाना जाता है” दोस्तों एक सैटेलाइट Natural या Man-Made हो सकता है, क्योंकि इसे व्यक्ति द्वारा भी निर्मित किया जा सकता है या फिर यह प्राकृतिक भी हो सकता है।

प्राकृतिक सेटेलाइट जैसे कि Moon जबकि वे सेटेलाइट से जो मानव द्वारा बनाए जाते हैं तथा यह रॉकेट द्वारा लॉन्च किए जाते हैं इन्हें “आर्टिफिशियल सैटेलाइट” भी कहा जाता है।

Types Of satellite in Hindi

पृथ्वी की सतह से उनकी ऊंचाई के आधार पर सेटेलाइटस को निम्न भागों में बांटा गया है।

Low-Earth orbits (LEO)

Low उपग्रह पृथ्वी से 180 किलोमीटर से लेकर 2000 किलोमीटर की हाइट में यह सैटेलाइट अंतरिक्ष के एक भाग पर कब्जा कर लेते हैं, यह सेटेलाइट पृथ्वी के आसपास घूमते हैं अतः सैन्य उद्देश्य हेतु एवं मौसम की जानकारी प्राप्त करने के लिए इस प्रकार के सैटेलाइट्स उपयुक्त होते हैं।

GEO satellites

GEO सैटेलाइट्स अर्थात भू-उपग्रह 36000 किलोमीटर से अधिक की ऊंचाई पर पृथ्वी की परिक्रमा करते हैं और इनकी कक्षीय अवधि पृथ्वी की घूर्णन अवधि अर्थात 24 घंटे के समान होती है इस श्रेणी में भू स्थैतिक उपग्रह आते है, जो पृथ्वी पर Fixed स्थान से ऊपर की कक्षा पर स्तिथ होते हैं, भूस्थिर उपग्रह को पृथ्वी के एक निश्चित स्थान पर बने रहने के लिए पृथ्वी के भूमध्य रेखा के ऊपर होना पड़ता है।

मौसम उपग्रह सभी भू स्थैतिक उपग्रह का उपयोग करते हैं

Medium-Earth orbits

नेविगेशन सेटेलाइट आपकी कार के द्वारा GPS का इस्तेमाल किया जाता है, इस ऊंचाई पर अच्छी तरह कार्य करते हैं यह ऊंचाई 2000 किलोमीटर से 36000 किलोमीटर तक होती है तो दोस्तों अब सवाल आता है कि आखिर सेटेलाइट क्यों महत्वपूर्ण होते हैं?

दोस्तों सैटेलाइट के पास पृथ्वी के एक बड़े भूभाग को एक समय पर देखने की क्षमता होती है। जिस प्रकार हवाई जहाज में बैठकर पृथ्वी की सतह के बड़े भाग को देखा जा सकता है दोस्तों सेटेलाइट की यही छमता अधिक डेटा को कलेक्ट करने तथा कम समय में अधिक डेटा प्राप्त करने में मदद करती है।

इसके अलावा पृथ्वी की सतह से Telescope के माध्यम से अंतरिक्ष को देखने की तुलना में अंतरिक्ष को सेटेलाइट के जरिये बेहतर तरीके से देखा जा सकता है सेटेलाइट्स के आविष्कार से पहले TV सिग्नल का जब इस्तेमाल होता था तो टीवी सिगनल cable स्ट्रेट लाइन में ही Travel कर सकते थे तथा अधिक दूरी पर नहीं जा सकते थे।

परंतु सेटेलाइट के आविष्कार के साथ टीवी सिग्नल एवं फोन कॉल को सेटेलाइट के साथ अंतरिक्ष में भेजा जा सकता था। सेटेलाइट के माध्यम से इन सिगनल्स को आवश्यकतानुसार पृथ्वी के किसी भी लोकेशन पर आसानी से भेजा जा सकता है।

दोस्तों आइए हम अंत में जान लेते हैं कि सेटेलाइट्स के कितने Parts होते हैं ?

दोस्तों जैसा कि हम जानते हैं विभिन्न उद्देश्यों के लिए सेटेलाइट्स को अलग-अलग निर्मित किया जाता है और इनके Parts भी अलग-अलग होते हैं। लेकिन ज्यादातर सेटेलाइट्स में जो एक बात Common होती है, वह होता है पहला एंटीना तथा दूसरा पावर सोर्स इसमें एंटीना पृथ्वी से जानकारियों को Send एवं Receive करता है। दूसरी तरफ पावर Source एक बैटरी या सोलर पैनल हो सकता है।

आपको बता दें सोलर पैनल से सूर्य की रोशनी को इलेक्ट्रिसिटी में बदलकर निर्मित किया जाता है। इसके अलावा कहीं ऐसे सेटेलाइट से होते हैं जो कैमरा एवं सेंसर के साथ कार्य करते हैं कभी-कभी यह उपकरण पृथ्वी में जल वायु के विषय पर जानकारी प्राप्त करते हैं, तथा इसके अलावा यह सोलर सिस्टम तथा यूनिवर्स का डाटा प्राप्त करते हैं।तो दोस्तों उम्मीद करता हूं सेटेलाइट क्या है ? से जुड़ी इज पोस्ट आपके लिए Usefull साबित होगी !

इसको भी पड़े ⇒ Computer Kya Hai 

आपको यह पोस्ट कैसी लगी कमेंट में अपने विचारों को जरूर बताएं! साथ ही दोस्तों यदि यह जानकारी पसंद आई हो तो अपने दोस्तों के साथ इसे फेसबुक या व्हाट्सएप पर जरूर शेयर करें। जय हिंदी जय भारत 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here